जब ठेस लगती है…

जब ठेस लगती है…

लोग डूबते हैं तो समंदर को दोष देते हैं,
मंजिल न मिले तो मुकद्दर को दोष देते हैं,
खुद तो संभल कर चल नहीं सकते,
जब ठेस लगती है तो पत्थर को दोष देते हैं।

                                                                 —-दीपक विश्वकर्मा
zindagi
Advertisements

परवाह उसकी कर जो ..

परवाह उसकी कर जो तेरी परवाह करे ,
ज़िन्दगी में जो कभी तनहा ना करे ,
जान बन कर उतर जा उसकी रूह में ,
जो जान से भी ज्यादा तुझसे प्यार और वफ़ा करे।