परवाह उसकी कर जो ..

परवाह उसकी कर जो तेरी परवाह करे ,
ज़िन्दगी में जो कभी तनहा ना करे ,
जान बन कर उतर जा उसकी रूह में ,
जो जान से भी ज्यादा तुझसे प्यार और वफ़ा करे।

Advertisements

Love Poem

खवाहिश नही मुझे मशहुर होने की।
आप मुझे पहचानते हो बस इतना ही काफी है।
अच्छे ने अच्छा और बुरे ने बुरा जाना मुझे।
क्यों की जीसकी जीतनी जरुरत थी उसने उतना ही पहचाना मुझे।
ऐसा नहीं है कि मुझमें कोई ऐब नहीं है
पर सच कहता हूँ मुझमे कोई फरेब नहीं है!!